Tuesday, April 16, 2024
HomeHealthMigraine: पुरुषों से ज्यादा महिलाएं होती है इस बीमारी का शिकार, जानिए...
HomeHealthMigraine: पुरुषों से ज्यादा महिलाएं होती है इस बीमारी का शिकार, जानिए...

Migraine: पुरुषों से ज्यादा महिलाएं होती है इस बीमारी का शिकार, जानिए क्यों 

India News(इंडिया न्यूज़),Migraine: कभी-कभी हल्का सिरदर्द आम हो सकता है लेकिन जब बहुत तेज या तेज सिरदर्द हो तो सावधान हो जाना चाहिए, क्योंकि यह माइग्रेन की समस्या हो सकती है। माइग्रेन पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक बार हो सकता है। विशेषज्ञों के मुताबिक महिलाओं में हार्मोनल उतार-चढ़ाव ज्यादा होता है। इससे उनमें माइग्रेन की समस्या अधिक हो सकती है। माइग्रेन की बात करें तो यह एक गंभीर सिरदर्द है जो सिर के एक तरफ से शुरू होता है। शोर सुनने पर मतली, उल्टी, चिड़चिड़ापन जैसी समस्याएं हो सकती हैं। आमतौर पर माइग्रेन का दर्द 4 घंटे से ज्यादा समय तक रहता है। कुछ लोगों में यह 3 दिन तक भी रह सकता है।

क्यों बढता है इसका खतरा 

एक्सपर्ट के मुताबिक, माइग्रेन अब एक आम सिरदर्द बनता जा रहा है। करीब 15 फीसदी लोग इससे प्रभावित हैं. माइग्रेन की समस्या अधिकतर पारिवारिक इतिहास के अनुसार देखी जाती है। अगर किसी के परिवार में किसी सदस्य को पहले कभी माइग्रेन हुआ हो तो उनमें भी यह समस्या हो सकती है। पीरियड्स के दौरान महिलाओं में माइग्रेन की समस्या अधिक गंभीर हो जाती है। महिलाओं में माइग्रेन की घटना पुरुषों की तुलना में 1 से 3 गुना अधिक होती है। मतलब एक पुरुष और तीन महिलाओं को माइग्रेन हो सकता है।

ये है इस बीमारी के कारण

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, महिलाओं में अधिक माइग्रेन का कारण शरीर के हार्मोन में होने वाला बदलाव है। दरअसल, महिलाओं में एस्ट्रोजन नामक हार्मोन पाया जाता है, जो उनमें माइग्रेन का मुख्य कारण बनता है। जो महिलाएं हार्मोनल नियंत्रण वाली दवाएं या गर्भनिरोधक गोलियां लेती हैं उनमें माइग्रेन का खतरा अधिक होता है।

रिसर्च में पाया गया 

ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज ने 2019 में इस पर एक अध्ययन किया था। जिसमें पाया गया कि दुनिया में 18 से 49 साल की महिलाओं में माइग्रेन की समस्या अधिक है। कुछ अध्ययनों से यह भी पता चला है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं को माइग्रेन का दर्द अधिक होता है।

ये भी पढ़ें :

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular