Sunday, April 14, 2024
Homeछत्तीसगढPM Modi: जिस फ़ाउंटेन में PM मोदी ने उछाला था सिक्का उसमें...
Homeछत्तीसगढPM Modi: जिस फ़ाउंटेन में PM मोदी ने उछाला था सिक्का उसमें...

PM Modi: जिस फ़ाउंटेन में PM मोदी ने उछाला था सिक्का उसमें से निकले 12 करोड़ से अधिक रुपये, जानें पूरा मामला

India News CG (इंडिया न्यूज़), PM Modi: जी-20 देशों का शिखर सम्मेलन 2021 में इटली की राजधानी रोम में आयोजित हुआ। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हिस्सा लिया। उस वक्त का एक वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया था जिसमें जी-20 देशों के नेता एक फव्वारे में सिक्के फेंकते नजर आ रहे थे। यह रोम का प्रसिद्ध ट्रेवी फाउंटेन है। यहां सिक्के फेंकने की सदियों पुरानी मान्यता है। ऐसा माना जाता है कि जिसका सिक्का सही जगह पर गिरता है उसे दोबारा रोम आने का मौका मिलता है। हर साल लाखों पर्यटक रोम आते हैं और इस फव्वारे में सिक्के फेंकते हैं। इन सिक्कों को बाद में एकत्रित कर लिया जाता है। इस पैसे से फूड बैंक, सूप किचन और कई कल्याणकारी योजनाएं चलाई जाती हैं। 2022 में इस फव्वारे से 15.2 लाख डॉलर यानी 12,59,91,508 रुपये निकले।

ऐसा माना जाता है कि ट्रेवी फाउंटेन में सिक्का उछालने वालों की मनोकामनाएं पूरी होती हैं। इस फव्वारे में फेंके गए सिक्के कैथोलिक धर्मार्थ संगठन कैरिटास के रोम डिवीजन को दिए जाते हैं। 2022 में इस फव्वारे से 1.52 मिलियन डॉलर के सिक्के निकले। माना जा रहा है कि 2023 में यह रकम और भी ज्यादा थी। ईसाइयों के सबसे बड़े धार्मिक नेता पोप रोम में बैठते हैं और हर साल करीब 2.1 करोड़ पर्यटक इस शहर में आते हैं। ट्रेवी फाउंटेन के चारों ओर लगे साइनबोर्ड बताते हैं कि फाउंटेन में फेंके गए सिक्कों का उपयोग धर्मार्थ उद्देश्यों के लिए किया जाता है। इस फव्वारे के आसपास दिन-रात पर्यटकों की भारी भीड़ लगी रहती है। ऐसा माना जाता है कि यदि आप अपने दाहिने हाथ को अपने बाएं कंधे पर रखकर फव्वारे में एक सिक्का उछालते हैं, तो आप रोम लौट आएंगे। साथ ही सिक्का उछालते समय लोग अपनी मनोकामना भी मांगते हैं।

ये फव्वारा 1762 में बनकर तैयार हुआ था

ट्रेवी फाउंटेन 1762 में बनकर तैयार हुआ था। यह मध्य रोम में पलाज्जो पोली के एक तरफ को कवर करता है। इसमें भगवान ओशनस के रथ का मार्गदर्शन करने वाले ट्राइटन की मूर्तियाँ हैं। यह पानी के तेज बहाव को रोकने का प्रतीक है। इसी स्थान पर प्रसिद्ध इतालवी फिल्म निर्माता फेडेरिको फेलिनी ने ला डोल्से वीटा का एक दृश्य फिल्माया था। इस सीन में हीरो और हीरोइन फव्वारे में घुसे थे। लेकिन आज इस फव्वारे में प्रवेश करना वर्जित है और ऐसा करने वालों से जुर्माना वसूला जाता है।

फव्वारे से होती है चोरी

अधिकारियों का कहना है कि इस फव्वारे से सप्ताह में 2 बार सिक्के निकाले जाते हैं। इस फव्वारे की महीने में 2 बार सफाई की जाती है। यदि कोई सिक्का फव्वारे में बहुत गहराई तक चला जाता है, तो उसे नली के माध्यम से बाहर निकाल लिया जाता है। इन सिक्कों को स्थानीय कैरिटास कार्यालय में ले जाया जाता है जहां उन्हें सूखने के लिए एक बड़ी मेज पर रखा जाता है। फव्वारे से न केवल सिक्के बल्कि आभूषण, दांत, धार्मिक पदक और अन्य चीजें भी निकलती हैं। फव्वारे के चारों ओर साइनबोर्ड लगाए गए हैं कि फव्वारे से सिक्के चुराना अपराध है। ये सिक्के भी कई दशकों से चोरी होते आ रहे हैं। कभी-कभी इसके लिए चुम्बकों का भी प्रयोग किया जाता है।

ये भी पढ़े: Lok Sabha Election 2024: छत्तीसगढ़ में कब-कब होगा चुनाव, जानिए महत्वपूर्ण तारीखें

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular