Monday, April 15, 2024
Homeट्रेंडिंग न्यूज़EV Sale in 2023: साल 2023 इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए रहा अच्छा,...
Homeट्रेंडिंग न्यूज़EV Sale in 2023: साल 2023 इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए रहा अच्छा,...

EV Sale in 2023: साल 2023 इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए रहा अच्छा, बिक्री में हुआ जबरदस्त उछाल!

India News (इंडिया न्यूज़), EV Sale in 2023: मंगलवार यानी (9 जनवरी) को फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन यानि FADA की तरफ से, 2023 में इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री किये हुए आंकड़े जारी किये गए, जिसमें जबरदस्त बढ़ोतरी देखने को मिली जोकि इलेक्ट्रिक वाहनों के बेहतर भविष्य की तरफ इशारा भी है।

सालाना तौर पर लगभग 50 फीसद बढ़ी ईवी बिक्री 

साल 2023 में  घरेलू बाजार में इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री की बात करें तो, 2023 में 15,29,947 यूनिट्स EV की बिक्री दर्ज की गयी, लेकिन साल 2022 में ये आंकड़ा 10,25,063 यूनिट्स EV की बिक्री का था, यानि कि इलेक्ट्रिक सेगमेंट में एक साल में ही 49.25% की बढ़ोतरी देखने को मिली, इसे आने वाले समय में EV के बेहतर भविष्य के तौर पर देखा जा रहा है।

इलेक्ट्रिक टू/थ्री व्हीलर की भी रही तगड़ी डिमांड 

साल 2023 में बिके इलेक्ट्रिक टू व्हीलर की बात करें तो इसमें 2022 के मुकाबले 36.09% की बढ़ोतरी को देखा गया, जबकी 2023 में ये आंकड़ा 8,59,376 यूनिट्स की बिक्री का ही था, जबकि 2022 में 6,31,464 यूनिट्स ई टू व्हीलर की बिक्री हुई थी।

ई-थ्री-व्हीलर के लिए पिछला साल काफी शानदार रहा साथ ही सालाना बिक्री में 65.23 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज हुई, 2023 में 5,82,793 यूनिट्स ई थ्री व्हीलर की बिक्री हुई, जबकि 2022 में ये संख्या 3,52,710 यूनिट थी।

कमर्शियल EV की बिक्री में 100% से ज्यादा बढ़ोतरी

ई-कमर्शियल गाड़ियों की बात करें तो सालाना बिक्री में शानदार 114.16 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखने को मिली, 2023 में इस सेगमेंट में 5,673 यूनिट्स की बिक्री हुई, जबकि 2022 में 2,649 यूनिट्स कमर्शियल EV की बिक्री देखने को मिली थी।

पैसेंजर EV की बिक्री में भी लगा शतक 

2023 में FADA की तरफ से जारी किये गए पैसेंजर EV के आंकड़ों के मुताबिक इलेक्ट्रिक PV में 114.71 % का जबरदस्त उछाल देखने को मिला साथ ही बिक्री का ये आंकड़ा 82,105 यूनिट्स पर जा पहुंचा, जो 2022 में 38,240 यूनिट का था।

बढ़ रही है ईवी की डिमांड

भारत में EV की डिमांड में लगातार बढ़ोतरी देखी जा रही है, जिसकी कई वजह हैं, हालांकि बढ़ता प्रदूषण इसका एक प्रमुख कारण है, जिससे सरकार और नागरिक दोनों ही परेशान हैं।

Read More:

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular