Sunday, April 14, 2024
Homeकाम की बातVastu Tips: वास्तु शास्त्र के अनुसार जानें दिशाओं का महत्व, बन जाओगे...
Homeकाम की बातVastu Tips: वास्तु शास्त्र के अनुसार जानें दिशाओं का महत्व, बन जाओगे...

Vastu Tips: वास्तु शास्त्र के अनुसार जानें दिशाओं का महत्व, बन जाओगे धनवान

India News (इंडिया न्यूज), Vastu Tips: मानव के जीवन विकास में घर, व्यावसायिक प्रतिष्ठान, ऑफिस, कारखाने महत्वपूर्ण प्रभाव डालते हैं। घर का लेआउट और दिशाएं जिसमें आंगन की स्थिति, तुलसी का पौधा, बाथरूम, पुजा घर, किचन, पानी की टंकी ये सभी संरचनाएं जो घर के निवासियों के सुख और दुख पर सिधा प्रभाव डालते हैं।

वास्तु शास्त्र में दिशाओं का अधिक महत्व है, क्योंकि पूर्व, पश्चिम, उत्तर और दक्षिण दिशाओं के ज्ञान के साथ-साथ ईशान कोण, अग्नि कोण, नैऋत्य कोण, वायव्य कोण आदि की जानकारी हो तो व्यक्ति आसानी से अपना घर-ऑफिस स्थापित कर सकता है।

दिशाओं की पहचान कैसे करें?

दिशाएं वास्तु विज्ञान का आधार बनती हैं। वास्तु शास्त्र प्रकृति और पांच तत्वों को दिशाओं से जोड़ता है। प्रकृति के विरुद्ध जाने से अनेक समस्याएं उत्पन्न हो सकती है, इसलिए सुखी जीवन के लिए घर के मालिक को सही दिशाओं का ज्ञान होना आवश्यक है। सामान्यत हम चार मुख्य दिशाओं से परिचित हैं पूर्व, पश्चिम, उत्तर और दक्षिण। पूर्व वह है जहां सूर्य उगता है, पश्चिम वह है जहां वह अस्त होता है, उत्तर उत्तरी ध्रुव की ओर है, और दक्षिण दक्षिणी ध्रुव की ओर है। यदि आपका मुख पूर्व की ओर है, तो दक्षिण आपके दाहिनी ओर है और उत्तर आपके बायीं ओर है।

उप-दिशाओं का ज्ञान

इन चार दिशाओं के अलावा, वास्तुशास्त्र मुख्य दिशाओं के बीच स्थित चार उप-दिशाओं, अर्थात् ईशान, अग्नि, नैरुत्य
और वायव्य को भी मान्यता देता है।

ईशान – पूर्व और उत्तर के बीच की दिशा
आग्नेय – पूर्व और दक्षिण के बीच की दिशा
उत्तर-पश्चिम – उत्तर और पश्चिम के बीच की दिशा
दक्षिण-पश्चिम – दक्षिण और पश्चिम के बीच की दिशा

वास्तु शास्त्र में दिशाओं का महत्व

वास्तु शास्त्र में भवन और उसके आसपास के क्षेत्र को ब्रह्मस्थान कहा जाता है और इसका बहुत महत्व माना जाता है। घर और ऑफिस दोनों में ब्रह्म स्थान पर विशेष ध्यान देना महत्वपूर्ण है। पर्सनल जरूरत के आधार पर कमरे डिजाइन करना, उस भवन के भीतर प्रॉब्लम पैदा कर सकता है।

Read More:

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular