Tuesday, April 16, 2024
HomeHealthMigraine: बहुत दर्द देता माइग्रेन, बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स
HomeHealthMigraine: बहुत दर्द देता माइग्रेन, बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स

Migraine: बहुत दर्द देता माइग्रेन, बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स

India News (इंडिया न्यूज़), Migraine: माइग्रेन एक ऐसी समस्या है जिससे सभी इजात पाना चाहते हैंं। माइग्रेन एक बेहद ही दर्दनाक बिमारी है। जिसके चलते सिर में बहुत ज्यादा दर्द होता है। सर्दियों के मौसम में आपका माइग्रेन ट्रिगर हो सकता है। इस मौसम में इंफ्लूएंजा जैसे वायरस के बढ़ने का साथ माइग्रेन की दिक्कत बढ़ने का खतरा हो सकता है। जैसे-जैसे सर्दी बढ़ती जाती है माइग्रेन का जोखिम और भी अधिक होता जाता है। कई मामलों में, कई कारक मिलकर माइग्रेन के हमले के जोखिम को बढ़ाते हैं। तनाव, मांसपेशियों में तनाव, बहुत कम या बहुत ज्यादा नींद और कुछ खाद्य पदार्थ या पेय माइग्रेन के ट्रिगर हैं। ऐसे में इस आर्टिकल के जरिए हम आपको बताएंगे कि कैसे कुछ आसान टिप्स के जरिए हम माइग्रेन के इस भीषण दर्द से बच सकते हैं।

अंधेरे और शांत कमरे में करें आराम

माइग्रेन से पीड़ित कई लोग लाइट और साउंड के प्रति सेंसिटिव होते हैं। ऐसे में अगर वो इसी रोशनी वाली जगह जाएं या ऐसी जगह रहें जहां काफी हल्ला हो रहा हो तो ऐसी हालत में स्थिति और भी बदतर हो सकती है। ऐसी हैलत में सलाह दी जाती है कि आप अंधेरे ऐर शांत इलाके में रहें। लाइट के संपर्क में आने से कई मिनट तक आईपीआरजीसी और दर्द संचारित करने वाली कोशिकाएं सक्रिय हो जाती हैं। इसी वजह से सिरदर्द का दर्द रोशनी में बदतर हो जाता है और अंधेरे में 20-30 मिनट के बाद सुधार होता है।

अपने माथे या गर्दन की करें सिकाई

माइग्रेन पेसैंट को कई बार माथे या गर्दन के पीछे सिकाई करने की सलाह दी जाती है। ठंड का प्रभाव सुन्न कर देने वाला हो सकता है। अपनी त्वचा की सुरक्षा के लिए अपनी त्वचा और आइस पैक के बीच एक कपड़ा रखें। आप गर्म सिकाई भी कर सकते हैं। गर्मी तनावग्रस्त मांसपेशियों को आराम देने में मदद कर सकती है, इसलिए आप गर्म स्नान या शॉवर लेने का भी प्रयास कर सकते हैं।

रहें हाईड्रेटिड

कई डॉक्टर्स का मानना है कि, शरीर में पानी की कमी से माइग्रेन ट्रिगर कर सकता है। ऐसी हालत में आपको ज्यादा से ज्यादा पानी पीने की सलाह दी जाती है। अगर आपको लगता है कि आप सिर्फ पानी नहीं पी सकते तो आप पानी में नींबू और नमक भी मिला सकते हैं। ये अपकी बॉडी को ज्यादा देर तक हाइड्रेट रखने में मददगार साबित होता है।

करें मेडिटेशन

माइंडफुलनेस मेडिटेशन तनाव को कम करने में मदद कर सकता है। माइंडफुलनेस मेडिटेशन एक ऐसी थेरेपी है जिससे हम अपने अंदर आसपास की घटनाओं और हालात के बारे में सजगता पैदा करते हैं। इस प्रक्रिया में हमें बस उन्हीं स्थितियों पर ध्यान केंद्रित करना होता है जहां हम होते हैं। माइग्रेन का एक बड़ा कारक स्ट्रेस भी है। ऐसे में माइंडफुलनेस मेडिटेशन से हम अपना स्ट्रेस कम कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें- Chhattisgarh Express fire: स्टेशन पर हादसा! छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस के AC कोच में लगी आग, मचा हड़कंप 

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular